Press "Enter" to skip to content

मोलाहेड़ा के सेंटर से भागे 5 कोरोना पॉजिटिव पेशेंट, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी ने कराया मुकदमा दर्ज


मोलाहेड़ा के कोविड सेंटर से एक सप्ताह पहले फरार हुए पांच पॉजिटिव पेशेंट का एक सप्ताह बाद भी सुराग नहीं लगने पर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने पालम विहार थाना में मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने आरोपियों के मोबाइल नंबर सर्विलांस लगा दिए हैं, लेकिन मोबाइल बंद होने के कारण अभी तक लोकेशन नहीं मिल पाई है। पुलिस का कहना है कि जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। वैसे गुड़गांव में अब तक 90 से अधिक पेशेंट अलग-अलग स्थानों पर बने क्वारेंटाइन सेंटरों से फरार हो चुके हैं। हालांकि बाद में इन आरोपियों को पकड़ लिया गया। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार इस तरह फरार होने वाले आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई की जाती है। लेकिन इससे संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाता है।

मोलाहेड़ा पीएचसी की डाक्टर मेडिकल ऑफिसर हरमीत कौर ने पालम विहार थाना में शिकायत दी है कि उन्होंने पॉजिटिव रिपोर्ट मिलने के बाद यूपी के पांच पेशेंट को मोलाहेड़ा स्थित दलबीर कालोनी स्थित क्वारेंटाइन सेंटर में एडमिट किया था। जहां से गत 28 जुलाई को ये पांचों युवक फरार हो गए। इसके बाद आसपास तलाश की गई लेकिन कहीं भी कोई सुराग नहीं लगा तो गत बुधवार को इस संबंध में पुलिस को शिकायत दी गई है। वहीं एसआई कंवर सिंह का कहना है कि पुलिस इस मामले में तलाश कर रही है। सभी के आधार नंबर व मोबाइल नंबर पुलिस को मिल गए हैं, लेकिन अभी तक पुलिस को सफलता हाथ नहीं लगी है।
गुड़गांव में मिले 83 काेरोना पॉजिटिव केस, 91 ठीक हुए

गुड़गांव में गुरुवार को कोरोना संक्रमण के 83 पॉजिटिव केस मिले, जबकि 91 मरीज रिकवर होकर घर लौट गए। अब तक कुल 9481 पॉजिटिव मामले आ चुके हैं, जिनमें से 8639 ठीक हो चुके हैं। गुड़गांव में प्रदेशभर में रिकवरी रेट 90.18 फीसदी है। जबकि मेवात का रिकवरी रेट प्रदेश में सबसे अच्छा 94 फीसदी से अधिक है। वहीं अब पॉजिटिव केस व मौत के मामले में फरीदाबाद जिला आगे निकल गया है और गुड़गांव जिला दूसरे स्थान पर है। हालांकि पिछले एक सप्ताह से गुड़गांव में लगातार 100 से कम पॉजिटिव केस मिल रहे हैं। गुड़गांव में गुरुवार तक कुल 115440 सैम्पल लिए गए, जिनमें से 103389 नेगेटिव आए हैं जबकि 9481 पॉजिटिव केस मिले हैं।

गंभीर पेशेंट के मामले में भी फरीदाबाद टॉप पर
जहां प्रदेशभर में 140 पेशेंट गंभीर स्थिति में आक्सीजन व वेंटीलेटर पर हैं। वहीं फरीदाबाद जिला गंभीर पेशेंट के मामले में सबसे आगे है। फरीदाबाद में कुल 88 पेशेंट आक्सीजन व वेंटीलेटर पर सांसें ले रहे हैं। जबकि गुड़गांव में केवल छह पेशेंट ऑक्सीजन व वेंटीलेटर पर है। जिनमें से तीन आक्सीजन व तीन वेंटीलेटर पर हैं। जबकि रोहतक में 11, सोनीपत में 12, करनाल में 6, हिसार में दो व मुलाना में 15 पेशेंट ऑक्सीजन व वेंटीलेटर पर रखे गए हैं।

Download Dainik Bhaskar App to learn Most up-to-date Hindi News This day

कोरोना से बचाव के लिए आयुर्वेदिक दवाइयां वितरित करते स्वास्थ्य कर्मी।

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *